Gaurav

शहादत

आज फिर लाशों का ढेर देखा… किसी की टूटती चूड़ियों को देखा किसी की कोख…