Gaurav

“आईना”

हमें अब न आईना न अक्स अपना लगता है, जाने क्यों भटकता हर शख्स अपना…